-->
पाए सभी खबरें अब WhatsApp पर Click Now

Below Post Ad

Image
पौधरोपण करने के साथ उनकी देखभाल भी करें- कलेक्टर

पौधरोपण करने के साथ उनकी देखभाल भी करें- कलेक्टर


छतरपुर। बारिस के मौसम को देखते हुए प्रदेश सरकार ने एक नया आदेश पारित किया है। यह आदेश प्रदेश सहित छतरपुर जिला प्रशासन को भी दिया गया है। इस आदेश में जल गंगा संवर्धन अभियान के तहत जल स्त्रोतों जैसे नदी, तालाबों, कुआं, बावड़ी तथा अन्य जल स्त्रोतों के संरक्षण  एवं पुर्नजीवन 5 जून से 15 जून तक करने का आदेश दिया है। जिला प्रशासन ने इस आदेश का पालन करते हुए विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर मंगलवार को जल स्त्रोतों का निरीक्षण किया है। कलेक्टर संदीप जीआर की मौजूदगी में जिला पंचायत सीईओ तपस्या सिंह परिहार, जनपद पंचायत सीईओ अजय सिंह, एसडीओ केएस खरे खोप पंचायत पहुंचे थे। खोप पंचायत में चल रहे तालाब के कहरीकरण के कार्य को जल्द पूर्ण करने के लिए सरपंच महेश यादव सहित सचिव को निर्देशित किया है। साथ ही विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर वृक्षारोपण भी किया गया।
जल स्त्रोतों का कलेक्टर ने किया निरीक्षण
जनपद पंचायत सीईओ अजय सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि दिनांक 31 मई 24 को प्रदेश सरकार ने एक जल स्त्रोतों को लेकर एक आदेश पारित किया है। जल गंगा संवर्धन अभियान के तहत 5 जून से 16 जून तक जल स्त्रोतों के निर्माण कार्यो को पूर्ण करने के आदेश दिए है। इसी क्रम में बुधवार को विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर कलेक्टर संदीप जीआर,
बुधवार 5 जून विश्व पर्यावरण दिवस प्रकृति को सहेजने और हरा भरा रखने का संदेश देता है। इसी संदेश को जन-जन तक पहुंचाने कलेक्टर छतरपुर संदीप जी.आर. ने छतरपुर जनपद के ग्राम खोंप के फ्रूट फॉरेस्ट में ग्रामवासियों के साथ पौधरोपण कर पर्यावरण को बचाने और शुद्ध प्राण वायु से स्वस्थ जीवन का संदेश दिया है। कलेक्टर श्री जी.आर. ने आम के पौधे को लगाया। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ श्रीमती तपस्या परिहार, एसीईओ चंद्रसेन सिंह, जनपद सीईओ सहित अन्य अधिकारियों ने भी पौधरोपण किया। कलेक्टर श्री जी.आर. ने जिलेवासियों से अपील करते हुए कहा फलदार (अमरूद, जामुन, आम, कटहल इत्यादि) एक पौधा जरूर लगाएं और उसकी देखभाल करें। कलेक्टर ने फ्रूट फॉरेस्ट का निरीक्षण करते हुए महिला स्वहायता समूह की महिलाओं को बेहतर तरीके से पेड़ों की देखभाल करने के निर्देश दिए। उल्लेखनीय है की छतरपुर जिले के सभी जनपद क्षेत्र अंतर्गत कलेक्टर श्री जी.आर. के निर्देशन में शासकीय भूमि को अतिक्रमण मुक्त कराकर बड़े एरिया में फ्रूट फॉरेस्ट लगाकर 10 लाख पौधों को लगाने का लक्ष्य रखा गया था। अभी तक फ्रूट फोरेस्टों में 3.70 लाख पौधों को लगाया गया है और उनकी देखभाल की जा रही है। दो वर्ष पूर्व ग्राम खोंप की शासकीय बंजर जमीन को कलेक्टर के निर्देशन में 5 एकड़ जमीन को अतिक्रमण मुक्त कराया गया। फिर फ्रूट फॉरेस्ट लगाया गया। महिला स्व सहायता समूह को फ्रूट फॉरेस्ट के संचालन को जिम्मेदारी दी गई। आज महिलाओं के लिए फ्रूट फॉरेस्ट आय का जरिया बना है। महिलाओं द्वारा इसमें सब्जियों का भी उत्पादन किया जाता है। साथ ही पौधों में खाद डालने के लिए खाद का निर्माण किया जाता है।
676 अपूर्ण कार्य होंगे पूर्ण
जनपद पंचायत सीईओ अजय सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि जल स्त्रोतों के अंतर्गत आने वाले 676 निर्माण कार्यो को पूर्ण कराने की जिम्मेवारी जनपद के अधिकारियों को मिली है। छतरपुर जनपद पंचायत अंतर्गत 676 जल गंगा संवर्धन अभियान के तहत कार्य चल रहे है। जिनको दस दिन के भीतर पूर्ण करने की कार्रवाई करना है। अपूर्ण कार्यो में कपिल धारा कूप 259, खेत तालाब 179, परकोलेशन टैक 32, नवीन तालाब 9, तालाब जीर्णोद्वार 5, सार्वजनिक कूप निर्माण 80 गेवियन 79, एनिकट 25, लूज बोल्डर 1 और चेक डेम 7 को 5 जून से 16 जून तक पूर्ण करने की जबावदारी मिली है। कलेक्टर संदीप जीआर और जिला पंचायत सीईओ तपस्या सिंह के निर्देशन में इन कार्यो को जल्द पूर्ण करा लिया जायेगा। मानसून को मद्देनजर देखते हुए यह आदेश प्रदेश सरकार ने किया है कि जल गंगा संवर्धन अभियान के तहत जल स्त्रोतों के निर्माण कार्य को जल्द पूर्ण किया जाये।

--- इसे भी पढ़ें ---

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article

-->