-->
पाए सभी खबरें अब WhatsApp पर Click Now

Below Post Ad

Image
 होली पर हुए हरिओम शुक्ला हत्याकाण्ड का खुलासा तीन आरोपी पकड़े, भाजपा नेता फरार

होली पर हुए हरिओम शुक्ला हत्याकाण्ड का खुलासा तीन आरोपी पकड़े, भाजपा नेता फरार

छतरपुर। दो दिन पहले होली के अवसर पर कोतवाली थाना क्षेत्र के महोबा रोड पर एक विवादित प्लाट पर कब्जे को लेकर हुई गैंगवार में हरिओम शुक्ला नामक युवक की हत्या कर दी गई थी। पुलिस अधीक्षक ने बुधवार को पुलिस कंट्रोल रूम में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान इस हत्याकाण्ड का खुलासा करते हुए हत्या में शामिल चार आरोपियों में से तीन की गिरफ्तारी पर से पर्दा उठाया। इस मामले में एक और आरोपी भाजपा जिला उपाध्यक्ष अभिषेक सिंह परिहार फिलहाल फरार है।  
पुलिस कंट्रोल रूम में मामले का खुलासा करते हुए एसपी अगम जैन ने बताया कि 25 मार्च को दोपहर करीब 12 बजे महोबा रोड पर हरिओम शुक्ला नाम के युवक की गोली मारकर हत्या की गई थी। घटना की जानकारी मिलने के बाद कोतवाली टीआई अरविंद कुजूर के नेतृत्व में पुलिस मौके पर पहुंची और घटना स्थल का बारीकी से भौतिक निरीक्षण करते हुए एफएसएल टीम, डॉग स्क्वाड, आईटी सेल द्वारा महत्वपूर्ण साक्ष्य एकत्रित किए गए। चूंकि घटना के बाद आरोपी मौके से भाग निकले थे इसलिए तत्काल ही घटनास्थल के आसपास सहित शहर के मुख्य चौराहों पर लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए और जिले के समस्त थाना क्षेत्रों में नाकाबंदी करा दी गई। मौके पर मिले साक्ष्यों, फरियादी के कथनों और चिकित्सीय रिपोर्ट के आधार पर कोतवाली थाने में भाजपा जिला उपाध्यक्ष अभिषेक सिंह परिहार, आकाश यादव उर्फ आकाश दऊवा निवासी सिंचाई कॉलोनी, अवधेश प्रताप सिंह उर्फ रासु राजा निवासी चेतगिरी कॉलोनी एवं शिवम सोनी उर्फ शुभम निवासी फौलादी कलम के विरुद्ध हत्या का अपराध पंजीबद्ध किया गया था।
भागने की फिराक में थे आरोपी, देरी रोड पर पकड़े-
पुलिस अधीक्षक अगम जैन ने बताया कि आरोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी हेतु एक विशेष टीम का गठन किया गया जिसका नेतृत्व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विक्रम सिंह और नगर पुलिस अधीक्षक अमन मिश्रा कर रहे थे। उक्त टीम ने आरोपियों के संबंधित ठिकानों पर दबिश देते हुए मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया, जिससे सूचना मिली कि तीन आरोपी देरी रोड की ओर जाते हुए देखे गए हैं। सूचना मिलते ही गठित पुलिस टीम ने मार्ग की चारों तरफ से घेराबंदी कर तीन आरोपी आकाश, अवधेश और शिवम सोनी को महर्षि विद्या मन्दिर के पास से पकड़ लिया गया। तीनों आरोपियों को अभिरक्षा में लेकर पूछताछ की गई जिसमें उनके द्वारा हत्या करना स्वीकार किया गया और हत्या का कारण पुरानी बुराई बताई गई। एसपी श्री जैन ने बताया कि आरोपी आकाश यादव के पास से घटना में प्रयुक्त 32 बोर का अवैध पिस्टल, दो जिंदा कारतूस, एक मोबाईल फोन, ऑल्टो 800 कार, रासू राजा के पास से एक 315 बोर का देसी कट्टा, 3 मोबाईल फोन और शिवम सोनी के पास से 2 मोबाईल फोन जप्त किये गये हैं। घटना का मुख्य आरोपी अभिषेक सिंह परिहार अभी फरार है, जिसकी तलाश जारी है।
प्लाट पर कब्जे को लेकर गुण्डों के बीच हुई थी गैंगवार-
इस मामले का खुलासा करते हुए पुलिस अधीक्षक अगम जैन ने बताया कि इस हत्याकाण्ड में शामिल सभी आरोपी आपराधिक पृष्ठभूमि के हैं जो विवादित जमीनों और प्लाट पर कब्जे का ठेका लेते हैं। महोबा रोड पर स्थित प्लाट पर नौगांव की भारती साहू नामक महिला प्लाट पर अपना कब्जा बताती है जबकि एक अन्य व्यक्ति भी इस प्लाट पर अपना स्वामित्व जताता है। इन दोनों पक्षों ने ही गुण्डों के दो पक्षों को प्लाट मुक्त कराने का काम दे रखा था। प्रारंभिक जानकारी के मुताबिक हरिओम शुक्ला और आकाश यादव के बीच इसी प्लाट पर कब्जे को लेकर कुछ समय से विवाद चल रहा था। ये दोनों आरोपी अभिषेक परिहार के लिए काम करते रहे हैं लेकिन हाल ही में दोनों के बीच प्लाट को लेकर विवाद हो गया था। इसी विवाद के चलते यह हत्या की गई।
इनकी रही सराहनीय भूमिका-
उक्त महत्वपूर्ण कार्यवाही में थाना प्रभारी कोतवाली निरीक्षक अरविंद कुजूर, थाना प्रभारी सिविल लाइन निरीक्षक वाल्मीकि चौबे, थाना प्रभारी नौगांव सतीश सिंह, उप निरीक्षक राम सिया चौधरी, उप निरीक्षक नंदकिशोर सोलंकी, उप निरीक्षक ओम शंकर सिंह, उप निरीक्षक राहुल शर्मा, उप निरीक्षक क्रिस्टोफर टोप्पो, प्रधान आरक्षक राजेश पाठक, प्रधान आरक्षक राजेश अहिरवार, प्रधान आरक्षक अरविंद कुशवाहा, आरक्षक विकास खरे आरक्षक कपिंद्र घोष, एफएसएल टीम प्रधान आरक्षक मलखान सिंह, साइबर सेल से संदीप तोमर एवं आईटी सेल राहुल भदौरिया की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

--- इसे भी पढ़ें ---

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article

-->