-->
पाए सभी खबरें अब WhatsApp पर Click Now

Below Post Ad

Image
रक्षक ही बने भक्षक , निर्दोष को 10 घंटे तक हथकड़ी लगाकर बैठाकर रखा थाने में

रक्षक ही बने भक्षक , निर्दोष को 10 घंटे तक हथकड़ी लगाकर बैठाकर रखा थाने में

 


नौगांव थाना प्रभारी एक बार फिर विवादों में, निर्दोष को 10 घंटे तक हथकड़ी लगाकर बैठाकर रखा थाने में

नौगांव। हमेशा विवादों में रहने वाले नौगांव थाना प्रभारी सतीश सिंह एक बार फिर विवादों में घिरते नजर आए। मिली जानकारी के अनुसार मऊरानीपुर से उठाकर लाए एक व्यक्ति को नौगाँव पुलिस ने बिना FIR के थाने में हथकड़ी लगाकर 10 घंटे तक बैठाये रखा । जिस व्यक्ति को मऊरानीपुर से पुलिस उठा कर लाई थी उसने अपना नाम केतन कुमार बताया है।केतन ने पुलिस अधीक्षक से न्याय की गुहार लगाई है।

 थाना प्रभारी सतीश सिंह के साथ मिलकर एक ही स्थान पर  लगभग 18 साल से जमे जिन्होंने सिपाही से लेकर मुंशी (रामराजा)बनने तक का सफर नौगांव थाने में ही रहकर पूरा किया। इस पूरी घटना को अंजाम दिया।वर्तमान में अलीपुरा थाने मे पदस्थ है लेकिन वरिष्ठ अधिकारियों की मेहरबानी से नौगांव थाने में अटैचमेंट है। लंबे समय से एक ही स्थान पर होने के कारण रामराजा मुंशी हमेशा विवादों में रहते है। लेकिन वरिष्ठ अधिकारियों की मेहरबानी होने के कारण उनका स्थानांतरण भी कहीं नहीं होता। जब किसी व्यक्ति के द्वारा इनका विरोध किया जाता है तो यह फर्जी केस में फ़साने की धमकी देते हैं या फिर केश मे फ़सा देते है।सूत्रों की माने तो रामराजा पुलिस कर्मी द्वारा कई लोगों को झूठे केस में पहले भी फसाया गया है।इस पूरी घटना से नौगांव पुलिस की छवि धूमिल हुई है।मानव आयोग से होंगी शिकायत।

यह आरोप लगाए है सुने....


नौगांव थाना पुलिस से यह सवाल-

(1)बिना FIR निर्दोष के 10 घंटे तक हतकड़ी लगाकर थाने मे क्यों रखा।

(2)मऊरानीपुर से उठाकर लाई नौगाँव पुलिस महिला से फ़र्ज़ी रिपोर्ट कराकर फंसाने की धमकी  आखिर किसके कहने पर देती रही।

(3)आखिर मऊरानीपुर का व्यापारी नौगाँव थाने क्यों आया था।

(4) कौन है मऊरानीपुर का राजीव अग्रवाल उर्फ़ राजू बजाज,आखिर क्यों फ़साना चाहता था केतन कुमार को।

जब रक्षक ही भक्षक भक्षक बन जाएंगे तो जनता किस पर भरोसा करेंगी। क्या पुलिस अधीक्षक इन पर कोई कार्रवाई करेगे या नहीं या पहले कैसा ही ठंडा बस्ते में यह मामला भी पड़ा रहेगा।

--- इसे भी पढ़ें ---

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article

-->