-->
पाए सभी खबरें अब WhatsApp पर Click Now

Below Post Ad

Image
आबकारी की मेहरबानी से भगवां शराब ठेकेदार की मनमानी जारी

आबकारी की मेहरबानी से भगवां शराब ठेकेदार की मनमानी जारी


(
संदीप सेन)

भगवां।भगवाँ क्षेत्र के कई गांव में अबैध शराब बिक्री का चलन जोरों पर हैं। मामले में संबंधित विभाग की उदासीनता सामने आ रही है। गांव में नशा खोरी रोकनें व अबैध शराब बिक्री के लिए ग्रामीणों ने कई प्रयास किऐ परंतु सांठगांठ से नतीजा सिफर हो जाता है। हालत यह है कि गांव में खुलेआम नशाखोरी का धंधा फलफूल रहा है। अबैध शराब बिक्री मामले में ग्राम भगवां को ही लें तो आबकारी बिभाग ने यहाँ पर स्मृति एसोसिएट्स लिमिटेड कम्पनी के नाम देशी शराब बिक्री का लायसेंस है। देशी शराब दुकान में शराब दुकान के ठेकेदार द्वारा लगातार भारी अनियमितताएं की जा रही हैं। ग्रामीण बताते है कि मुख्य मार्ग के बरेठी तिराहा पर शराब दुकान संचालित होने से दिन भर यहाँ सुरा शौकीनों की लाइन लगी रहती है। यहाँ तक कि ठेकेदार ने दुकान के पास ही अस्थाई अहाता भी खोल रखा है। जहाँ दिन में भी सुरा शौकीन जाम लड़ाते देखे जा सकते हैं जबकि रात में यहाँ महफिल गुलजार हो जाती है। शराबखोरी से आसपास के इलाके का माहौल काफी गंदा रहता है। पास ही छात्रसाल स्मारक, बालिका छात्रावास, बस स्टैंड, मुख्य बाजार होने से यात्रियों, महिलाओं व आम लोगों का आना जाना रहता है जिन्हें फजीहत का सामना करना पडता है। ग्रामीणों का मानना हैं कि जिम्मेदार अधिकारी हरकत में रहें तो निश्चित ही काफी हद तक अबैध शराब बिक्री का अंकुश लग सकता है।

बताया जाता है कि, भगवां से लगे आसपास के ग्रामीण अंचल हरीनगर, मबया, कुण्डलया, बीरो, बरेठी, फुटवारी, लिधौरा, कुँवरपुरा, खैरी, मलपुरा, गोरखपुरा, झिंगरी, रिछारा, सरकना, मुडिया, कुसाई, पुरापट्टी, उदन्ना, सुकरयाल, नवीन फुटवारी जैसे कई गांव में अबैध सुरा सप्लाई की जा रही है। ग्रामीणों का मानना हैं कि, जिम्मेदार अधिकारी हरकत में रहें तो निश्चित ही काफी हद तक अबैध शराब बिक्री का अंकुश लग सकता है।

इनका कहना है-

आपके द्वारा जानकारी प्राप्त हुई है, अगर ठेकेदार द्वारा प्रिंट रेट से अधिक में शराब बेची जा रही है। शराब दुकान के अलावा गांव-गांव गांव में जाकर शराब बेची जा रही है। तो निश्चित रूप से कार्रवाई की जाएगी। 

जीतेन्द्र शर्मा, आबकारी निरीक्षक छतरपुर

--- इसे भी पढ़ें ---

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article

-->