-->
पाए सभी खबरें अब WhatsApp पर Click Now

Below Post Ad

Image
आर्मी के जवानों ने मचाया उपद्रव, एसपी से शिकायत

आर्मी के जवानों ने मचाया उपद्रव, एसपी से शिकायत

छतरपुर। जिले के नौगांव शहर में आर्मी हवाई अड्डे के लिए रक्षा मंत्रालय द्वारा आरक्षित की गई भूमि की सीमा के पास एक यादव परिवार द्वारा अपने स्वामित्व की भूमि पर निर्माण कार्य कराया जा रहा था। यादव परिवार का आरोप है कि बीते रोज नकाब बांधकर आए आर्मी के करीब डेढ़ दर्जन जवानों ने न सिर्फ उनके निर्माण कार्य को क्षतिग्रस्त कर दिया बल्कि परिवार के सदस्यों के साथ मारपीट भी की। पीडि़त परिवार ने सोमवार को नौगांव थाने में मामले की शिकायत की थी और इसके बाद मंगलवार को जिला मुख्यालय पर पुलिस अधीक्षक कार्यालय में आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है। पुलिस अधीक्षक कार्यालय में आवेदन देने आए वार्ड नंबर 11 नौगांव के निवासी संजय सिंह यादव ने बताया कि रक्षा मंत्रालय द्वारा आर्मी हवाई अड्डे के लिए जो भूमि आरक्षित की गई है, उसकी सीमा से काफी दूरी पर वार्ड 11 में उसके परिवार के स्वामित्व की भूमि है। इसी भूमि पर दुकान और भवन का निर्माण कार्य कराया जा रहा था।

निर्माण कार्य करने से पहले परिवार ने नौगांव नगर पालिका से एनओसी जारी कराई है। संजय के मुताबिक आर्मी की भूमि के पास निर्माण के संबंध में हाईकोर्ट ने रिट पिटिशन में फैसला देते हुए कहा है कि आर्मी की भूमि से 10 मीटर की सीमा में निर्माण करने पर आर्मी से एनओसी लेना आवश्यक है, जबकि हमारा निर्माण आर्मी की भूमि से कई मीटर दूर हो रहा है और 17 नवम्बर 2023 को परिवार ने एडमिन कमांडेंट आर्मी कॉलेज को परिस्थिति से अवगत भी करा दिया था, लेकिन सोमवार की दोपहर मिलिट्री स्टेशन नौगांव के एडमिन कमांडेंट ने करीब डेढ़ दर्जन आर्मी के जवानों को निर्माण स्थल पर भेजा, जिन्होंने परिवार के सदस्यों के साथ मारपीट करते हुए निर्माणाधीन भवन को क्षतिग्रस्त कर दिया। संजय का आरोप है कि जवानों ने परिवार की गायत्री यादव, प्रीती यादव, उमा यादव, अर्चना यादव, अंजना यादव, वेटू, देव, शुभी, अजय, महेश, दिलीप, प्रदीप सहित अन्य लोगों के साथ मारपीट की। निर्माणाधीन स्थल पर तोडफ़ोड़ करते हुए सामान भरकर ले गए और अजय यादव का मोबाइल भी छीनकर ले गए। एसपी को आवेदन देकर पीडि़त परिवार ने मामले की जांच कराने और निष्पक्ष कार्यवाही कराने की मांग की है।

--- इसे भी पढ़ें ---

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article

-->