-->
पाए सभी खबरें अब WhatsApp पर Click Now

Below Post Ad

Image
 मसाला फैक्ट्री पर प्रशासन ने की छापामार कार्यवाही मसालों की सैम्पलिंग के बाद सील की गई फैक्ट्री

मसाला फैक्ट्री पर प्रशासन ने की छापामार कार्यवाही मसालों की सैम्पलिंग के बाद सील की गई फैक्ट्री


छतरपुर। जिला मुख्यालय के राजनगर बाईपास पर संचालित एक मसाला फैक्ट्री पर शुक्रवार को एडीएम के नेतृत्व में राजस्व एवं फूड विभाग की टीम ने छापामार कार्यवाही की। जांच के दौरान टीम को फैक्ट्री में मिलावटी मसाले मिले हैं, जिन्हें जप्त कर उनके सैंपल जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। इसके साथ ही फैक्ट्री को सील कर दिया गया है।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक शहर के कोतवाली थाना क्षेत्र अंतर्गत राजनगर बाईपास मार्ग पर मोतीलाल साहू नामक व्यापारी द्वारा पिछले करीब दो वर्षों से राठौर ट्रेडर्स नाम से मसाला फैक्ट्री का संचालन किया जा रहा था। प्रशासन को सूचना मिली थी कि उक्त फैक्ट्री में तैयार किए जा रहे उत्पादों में मिलावट की जा रही है। इसी सूचना के आधार पर कलेक्टर के निर्देशन में एसडीएम बलवीर रमण, तहसीलदार रंजना यादव, फूड इंस्पेक्टर अमित वर्मा के नेतृत्व में प्रशासनिक अधिकारियों की टीम ने फैक्ट्री पर दोपहर के वक्त छापा मारा। फैक्ट्री की जांच करने पर टीम को यहां भारी मात्रा में मसाले मिले। वहीं मशीनों के माध्यम से मसालों का निर्माण भी किया जा रहा है। फैक्ट्री में मिली सामग्री के आधार पर अनुमान है कि मसालों में मिलावट की जा रही थी, जिसके चलते टीम ने फैक्ट्री के मसालों का सैंपल लेकर जांच के लिए भेजने की बात कही है। टीम ने मसालों के नमूने लेकर फैक्ट्री सहित पूरे परिसर को सील कर दिया है। कार्यवाही के दौरान सीएसपी अमन मिश्रा, कोतवाली थाना प्रभारी अरविंद कुजूर भी पुलिस बल के साथ मौके पर मौजूद रहे।
फैक्ट्री में बन रहे थे दो ब्रांड के मसाले, एक का मिला रजिस्ट्रेशन-
जांच के दौरान पाया गया कि फैक्ट्री में सूरज और शिवम ब्रांड के मसाले तैयार किए जा रहे थे, जबकि संचालक के पास सिर्फ सूरज ब्रांड के दस्तावेज थे। फैक्ट्री संचालक के मुताबिक शिवम ब्रांड के दस्तावेज बनवाने की प्रक्रिया अभी जारी है। प्रशासन को संदेह है कि शिवम ब्रांड के प्रोडक्ट किसी अन्य स्थान से मंगवाकर बेचे जा रहे थे। फूड इंस्पेक्टर अमित वर्मा के मुताबिक मौके पर मिर्च पाउडर में मिलाया जाने वाला रंग मिला है, जिससे संदेह है कि फैक्ट्री में तैयार हो रहे उत्पदों में मिलावट की जा रही थी। मसालों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए हैं, जांच रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्यवाही होगी।
फैक्ट्री संचालक सीसीटीवी कैमरों से कर रहा था निगरानी-
प्राप्त जानकारी के अनुसार फैक्ट्री संचालक द्वारा संगठित तरीके से प्रशासन की टीम पर नजर रखने और स्वयं का अवैध कार्य को छुपाने के लिए सीसीटीवी कैमरों का दुरूपयोग किया जा रहा था। कैमरों के माध्यम से टीम को आता देख कर्मचारियों ने फैक्ट्री के दरवाजों को बंद कर लिया। बाद में प्रशासन की टीम दूसरे रास्ते से फैक्ट्री तक पहुंची जहां अफरा तफरी का माहौल था और मसालों में केमिकल युक्त रंगों का प्रयोग किया जा रहा था।
इनका कहना-
राजनगर बाईपास मार्ग पर संचालति राठौर ट्रेडर्स नामक फर्म में तैयार किए जा रहे मसालों में मिलावट की सूचना मिली थी, जिसके आधार पर कलेक्टर के निर्देशन में आमजन के स्वास्थ्य के दृष्टिगत खाद्य सुरक्षा अधिनियम प्रावधानों के तहत छापामार कार्यवाही की गई है। फैक्ट्री में मिले मसालों में मिलावट की आशंका है, इसलिए सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। अन्य राजस्व संबंधित बिन्दुओं पर भी फैक्ट्री की जाँच की जाएगी। जिले में संचालित इस तरह की अन्य फर्मों पर भी आगामी दिनों में कार्यवाही की जाएगी।
बलवीर रमण, एसडीएम, छतरपुर


--- इसे भी पढ़ें ---

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article

-->