-->
पाए सभी खबरें अब WhatsApp पर Click Now

Below Post Ad

Image
सालों से झोलाछाप डॉक्टर सोनू भटनागर प्रशासन के लिए बना था चुनौती?

सालों से झोलाछाप डॉक्टर सोनू भटनागर प्रशासन के लिए बना था चुनौती?


विधायक बब्लू शुक्ला ने कहा झोलाछाप डॉक्टरों से मेरा कोई संबंध नही,झोलाछाप डॉक्टर सोनू भटनागर के ऊपर कब होगा मामला दर्ज?

छतरपुर। विगत 22 दिसंबर को कलेक्टर के निर्देश पर बिजावर एसडीएम विजय द्विवेदी ने संयुक्त टीम के साथ क्षेत्र के ग्राम अनगौर में 2  झोलाछाप डॉक्टरों के क्लिनिक में छापामार कार्यवाही की गई थी। मौके पर झोलाछाप डॉक्टरों के पास अस्पताल संचालन से संबंधित कोई वैध दस्तावेज नहीं मिले थे। जिसके बाद नियम विरुद्ध चल रहे अस्पतालों को सील किया गया था। 29 दिसंबर 2023 तक का समय दस्तावेज प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए थे, नही तो एक पक्षीय कार्यवाही कर एफआईआर दर्ज के लिए बोला कहा गया था। सूत्रों की बात की जाए तो भाजपा के कद्दावर नेता के संरक्षण में मामला निपटाने में जुटा झोलाछाप डॉक्टर सोनू भटनागर। 

झोलाछाप डॉक्टर सोनू भटनागर के ऊपर कब होगा मामला दर्ज-

संयुक्त प्रशासनिक टीम के साथ बिजावर एसडीम विजय द्विवेदी ने झोलाछाप डॉक्टर सोनू भटनागर अनगौर के यहां कार्यवाही की थी। जिसमें 1-2 दर्जन कई राज्यों के मरीज लेटे भर्ती मिले थे। एसडीएम ने मौके पर फर्जी झोलाछाप डॉक्टर सोनू भटनागर की क्लीनिक से संबंधित कागजात मांगें थे, मौके पर कागजात नहीं मिलने और 29 दिसंबर तक का समस्त कागजात प्रस्तुत करने का कहा गया था। मौके पर एसडीएम ने संयुक्त टीम के साथ क्लीनिक को सील कर दिया था। 29 दिसंबर होने के बाद भी बिजावर एसडीएम झोलाछाप डॉक्टर के यहां, मामला दर्ज करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। सूत्रों की माने तो एसडीएम सुविधा शुल्क के चलते कार्यवाही करने से बच रहे है । झोलाछाप डॉक्टर सोनू के यहां करीब चार-पांच साल पहले संयुक्त कार्यवाही को लेकर एसडीएम और बीएमओ छापामार कार्यवाही के लिए आए थे, लेकिन सोनू भटनागर ने अपने क्लीनिक को अंदर से गेट बंद कर सभी मरीज अंदर कर लिए थे। तब एसडीएम ने कहा था कि कब तक बचोगे। झोलाछाप डॉक्टर सोनू भटनागर ने हाथ पैर चलाना शुरू किया और नेता नगरी के दम पर बच गया था।

सालों से फर्जी झोलाछाप डॉक्टर सोनू भटनागर प्रशासन के लिए बना था चुनौती? 

फर्जी झोलाछाप डॉक्टर सोनू भटनागर सालों से लोगों की जिंदगियों से खिलवाड़ कर रहा है। सोनू भटनागर फर्जी डॉक्टर के खिलाफ कई लोगों ने ऑनलाइन शिकायत भी की, उसके बाद भी स्वास्थ्य विभाग के सीएमएचओ के द्वारा कार्यवाही के लिए हिम्मत नहीं जुटा पाए। फर्जी झोलाछाप डॉक्टर प्रशासन,स्वास्थ्य विभाग के लिए चुनौती बना हुआ है।

इनका कहना है -

मेरा झोलाछाप डॉक्टर सोनू भटनागर या अन्य किसी झोलाछाप डॉक्टर से कोई लेना देना नही है। मेरे क्षेत्र में अवैध रूप से जनता का ईलाज कर रहे झोलाछाप डॉक्टरों पर प्रशासन जो कार्यवाही कर रहा है, करे। ऐसे झोलाछाप डॉक्टरों पर एफआईआर दर्ज कराई जानी चाहिए।

राजेश बब्लू शुक्ला,भाजपा विधायक, बिजावर

--- इसे भी पढ़ें ---

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article

-->