-->
पाए सभी खबरें अब WhatsApp पर Click Now

Below Post Ad

Image
फर्जी झोलाछाप डॉक्टर के ठिकाने पर छापा , तहसीलदार ने क्लीनिक किया सील

फर्जी झोलाछाप डॉक्टर के ठिकाने पर छापा , तहसीलदार ने क्लीनिक किया सील

 


कलेक्टर संदीप जी.आर काफी सख्त रवैया अपना रहे हैं। आज उन्ही के निर्देशन में  तहसीलदार अरविंद शर्मा दलवल के साथ गुलगंज पंहुचे


संदीप सेन 

गुलगंज ।सागर रोड पर एसडीएम ने झोलाछाप चिकित्सकों के यहां छापेमारी की जिससे झोलाछाप डॉक्टरों में खलबली मच गई। कई डॉक्टर अपने क्लीनिक छोडकर भाग गये तो कुछ ने अपने क्लीनिक बंद कर दिए। एसडीएम ने एक क्लीनिक को उसके डॉक्टर द्वारा दस्तावेज न दिखाए जाने पर सील कर दिया।

कसवा में झोलाछाप डॉक्टरों की दुकानें दिनों दिन बढ़ती जा रहीं हैं। इन फर्जी डॉक्टरों द्वारा मरीजों के जीवन से खिलवाड़ किया जा रहा है। कस्बा में जगह-जगह बिना रजिस्ट्रेशन वाले डॉक्टर क्लीनिक चला रहे हैं। इतना ही नहीं क्लीनिकों के नाम बड़े शहरों के क्लीनिकों की तर्ज पर रखते है, जिससे लोग आसानी से प्रभावित हो जाते है।  मरीज अच्छा डॉक्टर समझकर इलाज करवाते हैं, लेकिन उन्हें इस बात का पता नहीं रहता है कि उनका इलाज भगवान भरोसे किया जा रहा है। 

फर्जी डॉक्टरों के लिए यह धंधा काफी लाभदायक है। मरीजों को लुभाने के लिए बड़े डॉक्टरों की तर्ज पर जांच करवाते हैं और जांच के आधार पर मरीज का इलाज करते हैं, जिससे मरीज को लगे कि डॉक्टर सही हैं एवं उनका इलाज सही तरीके से किया जा रहा है। कसबा की लगभग हर गली में एक- फर्जी क्लीनिक चल रहे हैं।  फर्जी डॉक्टरों का कस्बा में ही ग्रामीण क्षेत्रों में भी धंधा फल-फूल रहा है। फर्जी डॉक्टर ग्राम स्तर पर शाखाएं जमाए हुए हैं और बड़े डॉक्टरों की तर्ज पर सप्ताह में चार दिन बिना संसाधनों के क्लीनिक चलाते हैं। फर्जी डॉक्टर वहीं दवा लिखते है जिनमें उन्हें कमीशन मिलता है। अक्सर ऐसे मामले देखने को मिलते है कि फर्जी डॉक्टरों के इलाज से मरीज की जान पर आफत आ जाती है और फर्जी डॉक्टर अपने बचाव के लिये अन्य प्राईवेट अस्पताल रेफर कर  देते है। स्वास्थ्य विभाग एवं प्रशासन को इनकी भनक तक नहीं है कि क्षेत्र में फर्जी डॉक्टरों द्वारा कितने बिना पंजीकरण के क्लीनिक संचालित किए जा रहे हैं। यदि शीघ्र ही फर्जी डॉक्टरों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई तो इनकी संख्या बड़ी तादाद में बढ़ जाएगी और मरीजों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ होता रहेगा। स्वास्थ्य विभाग एवं प्रशासन को उचित कार्रवाई करनी चाहिए, जिससे आम जनमानस को फर्जी डॉक्टर के चुंगल में फंसे से बचाया जा सके। 

फर्जी झोलाछाप डॉक्टर के ठिकाने पर छापा , तहसीलदार ने क्लीनिक किया सील-

 गुलगंज - तहसीलदार विजय कुमार  के नेतृत्व में आज गुलगंज में एक निजी क्लीनिक झोलाछाप डॉक्टर के ठिकाने पर छापामार कार्यवाही की गई ,गैर नियम पिछले कई सालों से गुलगंज ग्राम पंचायत के सामने एक दुकान किराय से लेकर  मे संचालन कर रहे।डॉक्टर ए के वाला  झोलाछाप के ठिकाने से मेडसिन व आवश्यक उपकरण वरामद हुये हैं। छापेमारी में सीएमओ  डॉक्टर , पुलिस  पटवारी  मौजूद थे।

जानकारी अनुसार  गुलगंज क्षेत्र भर में फलफूल रहे ऐसे झोलाछापों पर इन दिनों कलेक्टर संदीप जी.आर काफी सख्त रवैया अपना रहे हैं आज उन्ही के निर्देशन में  तहसीलदार  दलवल के साथ गुलगंज पंहुचे थे। जंहा कई वर्षों से आबाद डॉक्टर ए के वाला  पर तावड़तोड़ कार्यवाही की गई।कलकत्ता यह डॉक्टर ए के वाला  अपना  आशियाना वनाकर इस क्षेत्र की भोलीभाली जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

इनका कहना-

लोगो से शिकायत आ रही थी की गुलगंज ग्राम पंचायत के सामने एक बंगाली झोलाछाप डॉक्टर फर्जी तरीके से क्लीनिक चला रहे है । आज  क्लीनिक सील कर दिया गया है और डॉक्टर ए के वाला   को सात दिन का समय दिया गया है की अपने दस्तावेज पेश करे  अन्यथा कानूनी कार्यवाही की  जायेगी।

विजय कुमार द्रिवेदी एस.डी.एम  बिजावर 

--- इसे भी पढ़ें ---

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article

-->