-->
पाए सभी खबरें अब WhatsApp पर Click Now

Below Post Ad

Image
 रेत माफियाओं के हौसलें हैं बुलंद, खनिज विभाग और पुलिस विभाग की मिली भगत से हो रहा है अवैध उत्खनन

रेत माफियाओं के हौसलें हैं बुलंद, खनिज विभाग और पुलिस विभाग की मिली भगत से हो रहा है अवैध उत्खनन



छतरपुर। जिले में रेत का अवैध कारोबार काफी समय से फलफूल रहा है। रेत माफिया पूरी तरह से प्रशासन पर हाबी हैं। यही कारण है कि प्रतिदिन सैकड़ों की तादाद में ट्रेक्टर शहर में बिना रॉयल्टी के रेत की सप्लाई कर रहे है। इसके एवज में उन्हें पुलिस के तीनों थानों में इसका नजराना देना पड़ता है। खनिज विभाग और राजस्व विभाग के अधिकारी का महीना अलग से बंधा हुआ है। जिसके चलते रेत माफिया बेखौफ होकर रेत का अवैध उत्खनन करने में लगे हुए हैं छतरपुर के सभी एसडीएम हाथ पे हाथ धरे बैठे हुए हंै। बाजार में जरूर छापामार कार्यवाही कर व्यापारियों को डरा धमकाकर उन पर केस लादकर वाहवाही लूट लेते हैं परंतु शहर के अंदर आने वाले ट्रेक्टरों को पकडऩे में एसडीएम एवं पुलिस थाना के थाना प्रभारियों की नानी मरती है। रेत माफिया खुलेआम कहते हैं कि रेत का कारोबार करने के लिए दिलेरी होती है जिले का कोई भी ऐसा अधिकारी नहीं है जो रेत के कारोबारियों से महीना व हफ्ता वसूल न करता हो। यह बात प्रदेश के कांग्रेस कार्यालय में पहुंच चुकी है और तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ का पहला कदम रेत माफियाओं के खिलाफ ही होगा भाजपा सरकार के प्रदेशाध्यक्ष बीडी शर्मा के ऊपर यह आरोप लगे हैं कि उनकी सह पर लवकुशनगर क्षेत्र में रेत का अवैध कारोबारधड़ल्ले से चल रहा है परंतु कोई भी अधिकारी इन पर हाथ नहीं डाल पा रहा है। खनिज अधिकारी अमित मिश्रा से इस संबंध में बात की तो वह टाल मटोलकर अपना जबाव देने से कतराते रहे केवल चार माह का मेहमान हूँ। फिलहाल छतरपुर जिले में रेत का अवैध कारोबार काफी फलफूल रहा है और चुनाव के समय यह कारोबार दिन रात चला। जिसमें लोगों ने लाखों रुपए की कमाई की। 

--- इसे भी पढ़ें ---

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article

-->