-->
पाए सभी खबरें अब WhatsApp पर Click Now

Below Post Ad

Image
 शिक्षा विभाग के एडीपीसी भदौरिया पर लगे आरोपों की जांच कर रही सागर की टीम

शिक्षा विभाग के एडीपीसी भदौरिया पर लगे आरोपों की जांच कर रही सागर की टीम


भदौरिया पर लगे हैं भ्रष्टाचार सहित कई गंभीर आरोप, जल्द तैयार होगा जांच प्रतिवेदन
छतरपुर। जिला शिक्षा केन्द्र छतरपुर के अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक आरएस भदौरिया पर भ्रष्टाचार सहित कई अन्य गंभीर आरोप लगाते हुए संयुक्त संचालक, लोक शिक्षण सागर, संभाग सागर से पूर्व में एक शिकायत की गई थी। इस मामले में संयुक्त संचालक द्वारा एक कमेटी गठित कर जांच हेतु छतरपुर भेजी गई है। मंगलवार को छतरपुर पहुंची उक्त जांच टीम के द्वारा इस मामले सहित अलीपुरा विद्यालय के प्राचार्य से जुड़े एक अन्य मामले की जांच की जा रही है।
जांच दल का नेतृत्व कर रहे लोक शिक्षण सागर के सहायक संचालक मृत्युंजय कुमार ने बताया कि संयुक्त संचालक को जिला शिक्षा केन्द्र छतरपुर के अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक आरएस भदौरिया के संबंध में एक शिकायत प्राप्त हुई थी। इस शिकायत में भ्रष्टाचार सहित छात्रावास की बालिकाओं से संबंधित गंभीर आरोपों का उल्लेख था। इसके अलावा एक अन्य शिकायत अलीपुरा विद्यालय के प्राचार्य हफीज खान की थी, जो कि विपिन दीक्षित के द्वारा की गई थी। इस शिकायत में अलीपुरा प्राचार्य पर कार्य में लापरवाही करने के आरोप हैं। उक्त दोनों मामलों की जांच लंबित थी, जिसे पूर्ण करने के निर्देश मिले हैं। इसी तारतम्य में आज जांच टीम छतरपुर पहुंची है। सहायक संचालक मृत्युंजय कुमार ने बताया कि टीम अपने साथ छतरपुर के पूर्व जिला शिक्षा अधिकारी जे.एस. बरकड़े को भी लाई है। टीम के द्वारा प्रथम शिकायत से संबंधित आरएमएसए के कस्तूरबा गांधी बालिका छात्रावासों की वार्डन को बुलाकर एक प्रश्नावली सौंपी गई है, जिसके उत्तर आने के बाद जांच प्रतिवेदन तैयार कर संयुक्त संचालक को सौंपा जाएगा। इससे आगे की कार्यवाही संयुक्त संचालक द्वारा की जाएगी।
लगातार विवादों में है छतरपुर का शिक्षा विभाग
गौरतलब है कि जिस मामले की जांच की जा रही है उसके अतिरिक्त अन्य कई मामलों में छतरपुर का शिक्षा विभाग घिरा हुआ है। वर्तमान जिला शिक्षा अधिकारी एम.के. कौटार्य पर कई गंभीर आरोप हैं। इसके अलावा विभागीय कर्मचारियों और अधिकारियों की भी लगातार शिकायतें सामने आ रही हैं। हाल ही में जिले के कुछ शिक्षकों को गलत तरीके से जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा अपने कार्यालय में अटैच करते हुए उनसे गैरशिक्षकीय कार्य कराए जाने का मामला सामने आया है, जो अभी सुर्खियों में है।

--- इसे भी पढ़ें ---

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article

-->